Wednesday, 17 December 2014

निर्भया की दूसरी बरसी पर Voice against culture of silence campaign/बलात्कार की संस्कृति के खिलाफ चुप्पी तोड़ो अभियान की शुरुआत [Hotel Kamesh Hut, Varanasi] December 16, 2014





 












निर्भया की दूसरी बरसी पर Voice against culture of silence campaign / बलात्कार की संस्कृति के खिलाफ चुप्पी तोड़ो अभियान की शुरुआत

म्युजिसियन अगेंस्ट टार्चर, मानवाधिकार जननिगरानी समिति (PVCHR), सावित्रीबाई फूले महिला पंचायत (SWF), डेनिस इंस्टिट्यूट अगेंस्ट टार्चर (डिग्निटी), डेनमार्क के संयुक्त तत्वाधान में सांस्कृतिक संध्या ‘सम्मान हमारा हक़’ के तहत देश को शर्मसार कर देने वाली बलात्कार पीडिता ‘निर्भया’ की दूसरी बरसी एवं बलात्कार की घटना में संघर्ष करने वाली अन्य साहसी लड़कियों के सम्मान में श्रधांजलि अर्पित किया |  

(http://www.pvchr.net/2012/12/student-who-was-gang-raped-pushed-from.html)

यह कार्यक्रम निर्भया व उसकी जैसी अनेक साहसिक लड़कियों के सम्मान व बलात्कार की घटना से प्रभावित साहसी लड़कियों के सम्मान, मानवीय गरिमा व उनके संघर्ष को समर्पित कर आयोजित किया गया था | जिन बहादुर लड़कियों ने बलात्कार जैसी अमानवीय घटना से लड़ते हुए अपने बहुमूल्य जीवन को खो दिया या किसी प्रकार उनका जीवन इन घटनाओं से प्रभावित रहा, लेकिन फिर भी उन्होंने अपने संघर्ष को पूरी जिजीविषा से जारी रखा और नज़ीर पेश किया|

http://www.hrw.org/reports/2013/02/07/breaking-silence,  
http://www.satyamevjayate.in/Fighting-Rape/EPISODE-1watchvideo.aspx?uid=E1-EV-V1&lang=hindi

श्रधांजलि कार्यक्रम की शुरुआत निर्भया व अन्य साहसिक लड़कियों की याद में 2 मिनट मौन रख कर किया गया |जिसके बाद मुंशी प्रेमचन्द्र बाल पंचायत के बच्चों द्वारा निर्भया व साहसिक लड़कियों को समर्पित ‘पर लगा लिए हैं हमने’ जैसे क्रांतिकारी गीत से किया गया | 

यौनिक हिंसा के खिलाफ इस कार्यक्रम में शास्त्रीय संगीत के सुर-तालों से यश भारतीय सम्मान प्राप्त बनारस के गौरव व बनारस घराने के प्रसिद्ध सरोदवादक पं० विकास महाराज,(म्युजिसियन अगेंस्ट टार्चर संस्थापक सदस्य) उनके सुपुत्र पं० प्रभाष महाराज व पं ० अभिषेक महाराज ने सजाया | पं० विकास महाराज व उनके पुत्रों ने निर्भया व अन्य साहसिक लड़कियों को अपने संगीत की धुनों के ज़रिये श्रधांजलि अर्पित करते हुए महिलाओं के खिलाफ यौनिक हिंसा एवं छेड़छाड़ के विरुध संघर्ष करने के लिए नयी ताकत और जोश और उम्मीद पैदा कर दिया | 

संस्था द्वारा चुप्पी तोड़ो अभियान / Voice against culture of silence campaign की शुरुआत करते हुए अभियान का पोस्टर रिलीज किया गया और महिला अधिकार व महिलाओं से सम्बंधित प्रमुख मुद्दों स्वास्थ्य,समाज,पुलिस,पितृसत्तात्मक सोच, न्यायलयी प्रक्रिया, मीडिया व फ़िल्मों की भूमिका पर गहन चर्चा-परिचर्चा करते हुए भविष्य की कार्य योजना बनायीं गयी | 

महिलाओं की साथ होने वाली यौनिक हिंसा की घटनाओं व मुद्दों पर संस्था द्वारा किये गए पैरवी द्वारा प्राप्त चुनौतियों एवं अनुभवों को संस्था की ही कार्यक्रम निदेशक शिरीन शबाना खान द्वारा संस्था के महासचिव डा० लेनिन रघुवंशी ने समाज में व्याप्त मर्दानगी विषय को रेखांकित करते हुए कहा की आज हर बात मर्दानगी पर आकर एक दूसरा रूप धारण कर लेती है और मर्दानगी के कारण ही आज समाज में कई अमानवीय घटनाएँ घट रही है|    

https://www.youtube.com/watch?v=TRKmyzen0Vw 

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रसिद्ध भोजपुरी फिल्मों के निर्देशक एवं अभिनेता मान सिंह थे | जिन्होंने इस कार्यक्रम की सफ़लता व विषय वस्तु पर संस्था व उनके लोगों को बहुत-बहुत बधाई दिया और समाज में उनके योगदान व महत्ता पर भी प्रकाश डाला | 

धन्यवाद ज्ञापन संस्था के सीनियर मैनेजर डा० राजीव सिंह ने अदा किया | कार्यक्रम में अनूप कुमार श्रीवास्तव, मंगला प्रसाद, आनंद प्रकाश, शिव प्रताप चौबे,प्रतिमा पाण्डेय,संध्या,शोभनाथ, इरशाद अहमद व संस्था के अन्य लोग शामिल रहे | कार्यक्रम का संचालन संस्था की मैनेजिंग ट्रस्टी श्रुति नागवंशी ने किया |    

#PVCHR #PVCHRSupport #SWF #VoiceAgainstCultureofSilence #Nirbhaya #DeathAnniversary